International News



भारत ने इजराइल के साथ रद्द की 500 मिली० डॉलर की मिसाइल डील

इजराइल के साथ 500 मिलियन डॉलर की स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल डील को भारतीय रक्षा मंत्रालय ने रद्द कर दिया है। दरअसल रक्षा मंत्रालय अब मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल स्वदेश में ही बनाना चाहता है। इसी वजह से रक्षा मंत्रालय अब यह जिम्मेदारी डीआरडीओ यानी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन को दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस तकनीक की मिसाइल बनाने में डीआरडीओ को तीन से चार वर्ष लगेंगे। बता दें कि, इजराइल के साथ इस मिसाइल डील को रद्द करने की प्रमुख वजह भारत में ही अत्याधुनिक हथियारों के निर्माण को बढावा देना है। रिपोर्ट के अनुसार, इजराइल के साथ इस डील से डीआरडीओ के स्वदेशी हथियार बनाने की तैयारी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ना माना जा रहा था। इसी वजह से रक्षा मंत्रालय ने स्पाइक मिसाइल बनाने की डील को रद्द कर दिया है।



आतंकवाद प्रायोजक उत्तर कोरिया, अधिक प्रतिबंध लगाने की तैयारी में अमेरिका

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को आतंकवाद का प्रायोजक बताया और उस पर अधिक प्रतिबंध लगाने की बात कही। राष्ट्रपति ने यह फैसला पांच देशों के 12 दिवसीय एशिया दौरे से लौटने के बाद लिया है। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा कि, "दुनिया को परमाणु तबाही की धमकी देने के अलावा किंम जोंग उन ने बार बार अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का समर्थन किया है जिसमें विदेशी धरती पर हत्याएं भी शामिल है। प्रायोजक शब्द उस पर और अधिक प्रतिबंध लगाएगा और उसे अलग थलग करने में हमारे अभियान का समर्थन करेगा।" उन्होंने साथ ही कहा," ये काफी समय पहले कर दिया जाना चाहिए था।" किम जोंग ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों को अनदेखा करते हुए परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम जारी रखा हुआ है। ट्रंप की इस घोषणा के बाद अब उत्तर कोरिया उन देशों की सूची में शामिल हो गया है जिन्हें लगातार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकवाद को समर्थन देने वाला देश माना जाता है। अमेरिका ने इससे पहले ईरान, सूडान और सीरिया को भी इस सूची में शामिल कर रखा था। इसी साल सितंबर में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंध लगाए थे। प्रतिबंध का मसौदा अमेरिका ने तैयार किया था जिसे चीन और रूस समेत सभी 15 सदस्यों ने मंजूरी दी थी।