अजब गज़ब



प्लेटफार्म टिकट पर ‘अडानी रेलवे’ लिखा दिखाती ये तस्वीर फर्जी है

सोशल मीडिया पर यूजर्स इस तस्वीर को शेयर करते वक्त रेलवे को अडानी ग्रुप को ‘बेचने’ के लिए सरकार की आलोचना भी कर रहे हैं. कई ने कमेंट भी किए हैं कि अडानी ग्रुप ने प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 10 रुपये से बढ़ाकर 50 रुपये कर दिए. इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA)ने तस्वीर को छेड़छाड़ से फर्जी तैयार किया गया पाया है. मूल तस्वीर में ‘अडानी रेलवे’ या रेलवे के ग्रुप की निजी संपत्ति होने जैसी कोई बात नहीं लिखी है. हालांकि यह सच है कि भारतीय रेलवे ने कोविड-19 महामारी के बीच रेलवे स्टेशनों पर भीड़ कम रखने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट के दाम बढ़ाए हैं.



तस्वीर में नरेंद्र मोदी के साथ दिखने वाले ये शख्स अन्ना हजारे नहीं हैं

सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक पुरानी तस्वीर वायरल हो रही है. इस ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीर में मोदी एक शख्स के साथ खड़े दिख रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि ये शख्स सामाजिक कार्यकर्ता और आंदोलनकारी अन्ना हजारे हैं और ये दुर्लभ तस्वीर आरएसएस शिविर में खींची गई थी. तस्वीर के जरिये ऐसा बताने की कोशिश की जा रही है कि अन्ना हजारे भी आरएसएस के जुड़े रहे हैं और उनकी विचारधारा नरेंद्र मोदी से मिलती है. बता दें कि अन्ना हजारे साल 2011 में घर-घर में पहचाने जाने वाला नाम हो गए थे जब वो भ्रष्टाचार के खिलाफ दिल्ली में अनशन पर बैठे थे. उनके इस आंदोलन को जनता का भारी समर्थन मिला था.